Shree Ram is the Source

image

3 thoughts on “Shree Ram is the Source

  1. यदि किसी अनुभवी मनुष्य द्वारा परमेश्वर का मंगलमय नाम लिया जाये , तो उससे अन्तरात्मा जग जाता है और वह नाम वृतियों को मूर्छित करने में एक मोहन मन्त्र ही माना गया है। जैसे सजीव पेड़ को सजीव फल और बीज लगा करता है, ऐसे ही, ईश्वर कृपा तथा अनुभवी सज्जन से ग्रहण किया हुआ नाम ही ध्यान, एकाग्रता, समता और समाधि का कारण बना करता है।

    ——- स्वामी सत्यानन्द जी महाराज सरस्वती भक्ति प्रकाश पृष्ठ 419 सिमरन के प्रकरण में पहला पैरा

    The words यदि, तो, and ही are qualifying clauses inserted by swami Satyanand ji 5 times in above paragraph. मनुष्य … यानि जो मनन कर सके। जीवित शरीर में ही मनुष्य कहलाना सम्भव है। अनुभव इस मनुष्य शरीर रहते हुए में ही होते हैं। मृत शरीर को न कुछ दिया जा सकता है न ही उस से कुछ ग्रहण किया जा सकता है। If someone tries to say that some recorded voice of someone who is not in a human body anymore can do the initiation into the Ram Mantra and the path of Shri Shri Swami Satyanand Ji Maharaj, it is not supported by scriptures and even the writings of Shri Swami Satyanand Ji Maharaj clearly warn about this tendency which can form in any cult based on persons and not based on name of Almighty God.

  2. My dear brothers and sisters,

    I will like to bring to attention of all the atmas deeply involved in furthering the true cause of Shri Ram Sharnam to kindly think in the light of the following words of Shri Swami Satyanand Ji Maharaj Saraswati. He knew that we could make the kind of mistake as we have made about how to give naam deeksha and how to lead the works of Shri Ram Sharnam centres arounf the world. Kindly do not take it as a attack on the decisions already taken. Ours is a path shown by Swami ji and strenthened by his successors. We must look back to the writings of Shri Swami ji Maharaj ji to finally decide about his path.

    My sadar pranams and charan vandna to all the great souls that you are to have been in the guidance of Gurus of Shri Ram Sharnam. I bow down to Gurudev seated in the hearts of all of you.

    Ram dass.

    यदि किसी अनुभवी मनुष्य द्वारा परमेश्वर का मंगलमय नाम लिया जाये , तो उससे अन्तरात्मा जग जाता है और वह नाम वृतियों को मूर्छित करने में एक मोहन मन्त्र ही माना गया है। जैसे सजीव पेड़ को सजीव फल और बीज लगा करता है, ऐसे ही, ईश्वर कृपा तथा अनुभवी सज्जन से ग्रहण किया हुआ नाम ही ध्यान, एकाग्रता, समता और समाधि का कारण बना करता है।

    ——- स्वामी सत्यानन्द जी महाराज सरस्वती भक्ति प्रकाश पृष्ठ 419 सिमरन के प्रकरण में पहला पैरा

    The words यदि, तो, and ही are qualifying clauses inserted by swami Satyanand ji 5 times in above paragraph. मनुष्य … यानि जो मनन कर सके। जीवित शरीर में ही मनुष्य कहलाना सम्भव है। अनुभव इस मनुष्य शरीर रहते हुए में ही होते हैं। मृत शरीर को न कुछ दिया जा सकता है न ही उस से कुछ ग्रहण किया जा सकता है। If someone tries to say that some recorded voice of someone who is not in a human body anymore can do the initiation into the Ram Mantra and the path of Shri Shri Swami Satyanand Ji Maharaj, it is not supported by scriptures and even the writings of Shri Swami Satyanand Ji Maharaj clearly warn about this tendency which can form in any cult based on persons and not based on name of Almighty God.

    नाम नाद के ध्यान से करता राम कल्याण।

    महा – मांगलिक नाम से, देता धाम महान।। पृष्ठ 1 भक्ति प्रकाश।

    Naam Naad is possible through a living guru. This Naad helps one establish in dhyaan. Through a recorded voice only words, teachings and sounds get transmitted to the outer world. The naad is an inner phenomenon which happens only through a Living Master who has himself experienced the path by walking through it to reach the destination. Such naad when received through the grace of a guru living in Human form takes one to the greatest abode of Shri Ram through meditation on this Naad created by Guru.

    नाम रूप जिसका नहीं, हैं उसके सब नाम।

    भेद सुगुरु से पाइये, औंकार है राम।। दोहा नम्बर 12 पेज 52 भक्ति प्रकाश

    This is possible only in a one to one relation of physically present spiritual Guru and a worthy Disciple. This and other such mysterious revelations come when one gets to be with a living guru and practices his sadhna.

    स्थान धारणा से सुगम, नाम धारणा जान।

    विधि से नाम मिले जभी, होवे अपना ज्ञान।। पेज 59 भक्ति प्रकाश

    Initiation into Ram mantra is to be done with proper systematic tradition where a living Guru initiates a disciple. This is the only way….

    One has to strive hard to get an initiation with proper process through a living guru………. It is as described earlier by Shri Swami Satyanand Ji Maharaj …… यदि किसी अनुभवी मनुष्य द्वारा परमेश्वर का मंगलमय नाम लिया जाये, तो उससे अन्तरात्मा जग जाता है और वह नाम वृतियों को मूर्छित करने में एक मोहन मन्त्र ही माना गया है। जैसे सजीव पेड़ को सजीव फल और बीज लगा करता है, ऐसे ही, ईश्वर कृपा तथा अनुभवी सज्जन से ग्रहण किया हुआ नाम ही ध्यान, एकाग्रता, समता और समाधि का कारण बना करता है।

    गुरु मुख से जब ही मिले, शब्द नाम अनमोल।

    वृत्ति ध्यान समाधि में, हो कर रहे अडोल।। 6/94 भक्ति प्रकाश

    The initiation into the Ram Mantra is possible only through the word of mouth of a living guru in which he unifies the mantra with anta-karan of his disciple. Here you can not call the recordings of a cassette to be गुरु मुख. In such a case, it is only hearing about a process which took place in past with some other person/s. it is not for the present subject. Some people may want to rule unsuspecting aspirants by coaxing and misleading them to come under the proxy rule of trustees by giving arguments which are not supported by true scriptures. All scriptures caution against such crooks.

    जैसे चुम्बक संग से, लोह तथा हो जाए।

    ऐसे सदगुरु संग से, मन में समाधि आय।। 11/94 भक्ति प्रकाश

    Only the company of a living Guru can do this. One can not create effect of a magnet through a video or a photograph of a magnet. Only a true living magnet can magnetise a piece of iron.

    जैसे ताम्र – तार में, हो विद्युत् – संचार।

    ऐसे हो शुभ नाम से, ध्यान का अति विस्तार।। 12/94 भक्ति प्रकाश

    जैसे सूर्य किरण से चमके चाँद स्वरूप।

    ऐसे उत्तम नाम से,चमके अपना रूप।। 13/94 भक्ति प्रकाश

    When the sun shines on moon and lends its light through its rays to moon, only then the moon shines forth and shows itself to the world………… without this illumination, moon cannot be visible. And we need a real SUN and not the video or picture of sun. We cannot project the recorded video of Sun to illuminate the moon. Similarly, recorded video of a great guru also can not initiate an aspirant onto the path of Ram mantra.

    मन में रमाय राम को, गुरु संगती में बैठ।

    करे कमाई नाम की, चली जाती है पैठ।। 17/94 भक्ति प्रकाश।

    Guru Sangati is possible only with a living guru. Sitting with a photograph of a great guru is not गुरु संगती. Sangati means sitting in the company of a true guru living in a body. चली जाती है पैठ………… this is how it has been and has to be.

    छूते विद्युत तार को, हो बिजली संचार।

    गुरु संगति में बैठते, बढे नाम में प्यार।। 13/160

    A book written on electricity or a photograph or a video of flow of electricity cannot cause electric current to flow in a wire….. nor can it give an electric shock. One needs a live wire to be electrified by its contact.

    भक्त भजन से मानिए, हो साधन से संत।

    सेवक साधक हैं सभी, सज्जन साधू महंत।। 14/160

    Since sadhana or practice of sadhan makes a saint, how can a photograph do sadhna to become a saint. It just denotes a saint and reminds one of the great personality of that saint. It only helps us dwell on the thoughts of that person and reminds us of his greatness.

    ज्ञानी जन से सीखिए, गुरु जन से यह रीत।

    रहस्य मौन अभ्यास है, रखिये श्रद्धा प्रीत। 164

    Learn Only from those who have gained knowledge through the experience and from GURUS ( those capable of dispelling the darkness because of being source of light of direct experience).

    गुरु मुख से ले शब्द को, करिए नित्य अभ्यास।

    अचल धारणा धारिये, जहाँ शक्ति का वास।। 28/167 भक्ति प्रकाश

    पलड़े सांसों सांस के, दोनों कर ले ठीक।

    गुरु मुख से ले शब्द को, हो जा सदा निर्भीक।। 52179 भक्ति प्रकाश।

    सैन बैन संकेत से, इसका वर्णन होय।

    गुरु जन से जा सीखिए, मार्ग देवे सोय।। 54/179

    Though this can be described by facial expressions and showing pointers and by directing one………. But the path can be given and shown only by a living Guru.

    ग्रन्थों में बहु भेद हैं, पर शाखा से शाख।

    लगे सुजीवित जानिये, संतों की यह साख। 55/180

    Though various scriptures contain a lot of secrets but all saints have witnessed and described that — as only a piece of living branch can sprout to form a tree, and it is not possible from a dead branch; similarly one can be enlightened by a living and awakened guru.

    भुने गहने ज्यों बीज से, अंकुर निकल न आय।

    तथ भावना हीन से, अनुभव विकास न जाय।। 56/180

    मार्गवेत्ता पाय कर सत्संगति में बैठ।

    नाम सुमोति पाइये, गहरे पानी पैठ।। 57/180

    ( one has to find a living master who knows the way to one ness with Almighty Shri Ram by direct experience. And once such a master is found, sit in his truth enlightening company and dive deep to get the Naam daan. None of the scriptures ask one to look for a great saint who is no more in body…….. all teach us to find a living guru who has had direct experience)

    सीख संत पै तीन गुण, राम भक्ति शुभ नाम।

    सेवा सज्जन संत की, दीन की शोभा धाम।। 7/181

    गुरु से दीक्षा लीजिये, मंगलमय ले नाम।

    बाना रखना पन्थ का, जान तभी बिन काम।। 20/182

    Take initiation from the guru…….( ofcourse a living guru only)

    अपनी आत्मा मारना, अंध मतों में जाय।

    झूठे निश्चय पन्थ में, देना राम भूलाय।। 198

    As Shri Shri Swami Satyanand Ji Maharaj writes in his commentary on kathopanishad in ekadshopanishad sangrah, such people go directionless like blind following a blind.

    What is a अंध मत and झूठे निश्चय पन्थ. Where one who has not had direct experience tries to hook aspirants to his sect for worldly gains. One who has not seen can not show you.

    छुपाना सत्य बात को, पक्षपात में आय।

    कहना करना अन्यथा, चोरी कर्म कहाय।। 32/200

    Those who hide the truth for the sake of proving their own point are nothing but involved in theft.

    करे अर्थ को खींच कर, ग्रन्थ का मत अनुकूल।

    आत्म चोरी यह कही, सब पापों का मूल।। 33/200

    And if you try to pull and push the words of scriptures to suit your wrong deeds , then it is root cause of all the sins and it is like stealing ones own soul from oneself.

    खींचातानी न कीजिये, ग्रन्थों को यों खोल।

    मत के वाद विवाद में, भरी पड़ी है पोल।। 34/200

    Kindly do not distort the meanings of the scriptures to suit your own selfish ends

    करना सुपुष्टि पन्थ की, झूठे अर्थ बनाये।

    ऐसे जन ने जानिये, आत्मा दिया चुराय।। 35/200

    Those who try to defend their sect through wrongly defining and describing scriptures are making theft of their own souls.

    मिथ्या पन्थ को मानना, हरि की चोरी जान।

    जग की चोरी अन्य सब, संतों करी बखान।। 39/201

    And those who believe in such false sects are thieves stealing from the truth that Almighty God is. Rest of the thefts are worldly thefts and their may be a remedy to those sins but not to the theft committed to God.

    Trying to mislead people by giving wrong misleading and construed answers and deriving wrong meanings to wrongly justify ones incorrect stand is root cause of all the sins.

    शिष्य कैसा हो ………….

    जो जपते हैं नाम को, पाय शब्द सुखकार।

    अनुग्रह देव दयाल की, उनको करती पार।। 36/206

    मार्ग है यह मर्म का, मन मुखी जन न पाय।

    गुरु मुख साधे नाम को, भीतर से धुन लाय।। 40/206

    विनीत जिज्ञासु कोमल होवे, सत्संगति से मन मल धोवे।

    पाय ज्ञान जो तत्व है सारा, उस से होवे पार उतारा।। 51/234

    गुरु – जन का सेवक हो सीखे, विनय भाव में शुभ ही दीखे।

    ले उपदेश करे शुभ – करणी, तीनों ताप पाप की हरणी।। 52/234

    to serve and learn in company of a guru, one living guru who is capable, true, unselfish, accompalished, and one who has realized the soul directly is a definite requirment.

    उससे खिले ज्ञान की ज्योति, प्रतीति निज रूप की होती।

    हरि – लीला अपने में देखे, कर दे दूर पाप के लेखे।। 53/234

    उपनिषद के अनुसार स्वामी सत्यानन्द जी ने गुरु कौन व कैसा हो, ये भक्ति प्रकाश के उपनिषद् सार में लिखा है।

    गुरु जन वे जो होवें ज्ञानी, ब्रह्मनिष्ठ भक्त शुभ ध्यानी।

    श्रुति स्मृति शुभ पथ के ज्ञाता, पूजन योग्य पिता ज्यों माता।। 9/243

    Guru has to be one who has directly seen and realized himself, should be steadfast in knowledge of God, devoted and meditative. Of course this is possible in a living person

    स्वार्थ रहित सहित सच ही के, कर्म विचार चरित के नीके।

    भ्रम, तम संशय सब ही टारे, नाम सुनौका से जन तारें।। 10/243

    Such a ( living ) guru who is without any selfish motive, full of truth only, and good deeds, thoughts and conduct can remove illusions, darkness and doubts and helps the aspirant by giving him Mantra to swim across the ocean of delusion of Maya world.

    ऐसे सुगुरु पास ही जावे, विनय सहित निज सीस झुकावे।

    आदर दे कर करे जिज्ञासा, हरे नाम – रस चाख पिपासा।। 11/243

    One has to go to a physical living capable master.

    ईश सुनाम भक्ति का दानी, अध्यात्म गुरु जानिये ध्यानी।

    सत्य – ज्ञान से हरे अन्धेरा, विमल भाव की करे सवेरा।। 14/243

    Such meditative spiritual guru (of course a living guru only ) gives the mantra deeksha and bhakti to dispel the darkness by revealing the truth and brings about the light of pure thoughts

    दे कर ज्ञान हरे भय भारा, पाप कर्म का करे किनारा।

    नाम बीज हृदय में बोवे, जन्म मरण के बन्धन खोवे।। 15/243

    Guru has to establish the mantra in the inside/ antahkaran of a disciple.

    जैसे शाखा जीवित लागे, ऐसे जन गुरुवर से जागे।

    आत्मा बोधे समाधि दाता, शुभकारी भव भय से त्राता।। 16/243

    Like a dead wood cannot result in a tree or a sprout, only a living branch of a tree can get sprouted into another tree; similarly only a living awakened guru can awaken a disciple.

    सुन कर शब्द, मनन कर धारे, बार बार वह भेद विचारे। 10/245

    सन्त सुशीतल चाँद है, चन्दन लेप समान।

    उसकी संगति मानिए, धर्म कर्म की खान।। 5/252

    काम धेनु सम सन्त है, चिंतामणि सम जान।

    पूर्ण करे सुकामना, मुख माँगा दे दान।। 24

    Above can not be attained without a living saint/guru

  3. भगवान् कृष्ण ने गीता में हर मनुष्य को इच्छा स्वतंत्र बताया है। सभी को सोचने, कहने, करने के स्वतन्त्रता है। स्वामी जी अपनी गीता टीका में लिखा है कि , मनुष्य परमेश्वर के हाथ की कठपुतली नहीं है। करने की स्वतन्त्रता मनुष्य की है। ठीक गलत का निर्देश श्री स्वामी जी महाराज के ग्रन्थों में दिया गया है। ये ग्रन्थ अवतरित हैं, उन्हें स्वामी जी ने लीन अवस्था में परमेश्वर की वाणी को सुनकर लिखा है। इसीलिए अपने सब काव्य में लिखे ग्रन्थों पर उन्होंने अपने आप को लेखक लिखा है, कवि या रचयिता नहीं। क्योंकि रचने वाले तो भगवान् हैं, उन सब ग्रन्थों के। जो उनके ग्रन्थों में लिखा है वो सब परमेश्वर वाणी है ; उसका खंडन नहीं किया जाता। लोग और संस्थाएं अपनी मर्ज़ी करने को स्वतंत्र हैं। उनके कर्म या इच्छा परमेश्वर के अधीन नहीं हैं। परमेश्वर तो उनके ठीक या गलत का निर्णय कर के फल देता हैं परमेश्वर के लिए तो नास्तिक और आस्तिक सभी प्राणी उसकी अपनी सन्तान है और वो उनमें भेद भाव नहीं करते। कर्म के अनुसार फल की रचना होती है। इस संसार में बलात्कार और हत्या परमेश्वर की मर्ज़ी से नहीं हो रही। ये सब तो मनुष्य के स्वेच्छा से किये कर्म हैं, परमेश्वर तो उनका फल निर्णय करता है।। अपने हर कर्म को परमेश्वर की मर्ज़ी कहना पाप कर्म है।
    परमेश्वर कभी भी किसी का पक्ष नहीं लेते। वो सदा निष्पक्ष और निरपेक्ष हैं। उनके लिए तो सारी सृष्टि एक जैसी है। गुरुजन तो परमात्मा में लीन हो चुके हैं। वो किसी एक स्थान या किसी भी धर्म के किये पक्षपात नहीं कर सकते, क्योंकि, परमेश्वर में लीनता का अर्थ यही होता है। परमेश्वर जैसा की गीता में भी कहा है, ” मैं सभी प्राणियों के हृदय में सामान रूप से विराजमान हूँ।”
    ऐसी स्थिति में वो किसी का पक्ष कैसे ले सकते हैं। और श्री स्वामी जी भी ऐसा ही लिखते हैं।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s